Wednesday, July 17, 2024
ED TIMES 1 MILLIONS VIEWS
HomeHindiअकेले भारतीय एथलीट आरिफ खान कौन हैं जो बीजिंग शीतकालीन ओलंपिक में...

अकेले भारतीय एथलीट आरिफ खान कौन हैं जो बीजिंग शीतकालीन ओलंपिक में भाग ले रहे हैं?

-

बीजिंग नेशनल स्टेडियम में आयोजित शीतकालीन ओलंपिक के उद्घाटन समारोह में आरिफ खान भारतीय राष्ट्रीय ध्वज के साथ चले। वह इस बार भाग लेने वाले एकमात्र भारतीय एथलीट हैं।

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक भारतीय शीतकालीन खेल एथलीट के रूप में अपनी पहचान को पुनः प्राप्त करने के लिए खान का अवर्णनीय संघर्ष सराहनीय है। वह मेन्स स्लैलम और मेन्स जायंट स्लैलम इवेंट्स में हिस्सा लेंगे।

कश्मीर से बीजिंग तक

कश्मीर के गुलमर्ग के बर्फ से ढके पहाड़ों के बीच पैदा हुए 31 वर्षीय आरिफ खान छोटी उम्र से ही स्कीइंग करते हैं। उनके पिता एक स्की गाइड हैं और एक स्कीइंग उपकरण की दुकान के मालिक हैं।

वर्ष 1994 में, खान को स्कीइंग से परिचित कराया गया। उन्होंने कहा, ‘हमें स्की की दुकान तक करीब 500 मीटर पैदल चलना था। और मोटी बर्फ थी। मेरे पिता ने दुकान के ठीक बाहर एक छोटी स्की ढलान तैयार की थी। हमने सुबह करीब 9:30 बजे (स्कीइंग) शुरू किया और घंटों तक चला।

10 साल की उम्र तक, उन्होंने अपने करियर की कल्पना की थी- एक पेशेवर स्की खिलाड़ी बनने के लिए। एक जूनियर राष्ट्रीय चैम्पियनशिप में, उन्होंने अपना पहला स्वर्ण तब जीता जब वह 12 वर्ष के थे। उन्होंने 16 साल की उम्र में कई अंतरराष्ट्रीय आयोजनों में भाग लिया।

खान ने कहा, “2008 तक मैं अन्य भारतीय एथलीटों की तुलना में तेजी से स्कीइंग कर रहा था और तभी मैंने फैसला किया कि मैं ओलंपिक के लिए जाने के बारे में सोच सकता हूं।” विश्व चैंपियनशिप में, उन्होंने चार बार भारत का प्रतिनिधित्व किया। 2011 में दक्षिण एशियाई शीतकालीन खेलों में, उन्होंने स्लैलम और विशाल स्लैलम स्पर्धाओं में दो स्वर्ण पदक जीते।

शीतकालीन खेलों के लिए धन की कमी

भारत में शीतकालीन खेलों के लिए धन प्राप्त करना अत्यंत कठिन है। जैसा कि आरिफ खान कहते हैं, “मैंने कभी नहीं सोचा था कि देश के लिए एक पेशेवर खिलाड़ी के रूप में जारी रखने के लिए समर्थन प्राप्त करना मुश्किल होगा।”

आरिफ खान को 2018 में प्योंगचांग ओलंपिक शीतकालीन खेलों के लिए एक क्राउडफंडिंग कार्यक्रम का सहारा लेना पड़ा। वह चार आयोजनों के लिए धन प्राप्त करने में सफल रहे, लेकिन पांचवें के लिए नहीं। दिल टूट गया, उन्होंने 2022 बीजिंग खेलों की ओर ध्यान दिया।

निजी कंपनियां शुरू में उसे न्यूनतम धन के साथ प्रायोजित करने का वादा करती थीं लेकिन बाद में लड़खड़ा जाती थीं। आखिरकार, आरिफ को जेएसडब्लू से स्पॉन्सरशिप मिल गई जिसमें उसका आधा खर्चा आया। उन्होंने पिछले साल अपने प्रशिक्षण आधार को ऑस्ट्रिया में एक अंतरराष्ट्रीय अकादमी में स्थानांतरित कर दिया।


Also Read: ResearchED: Indian Sportspersons Who Went From Abject Poverty To Winning Medals For India At The Olympics


ओलंपिक के लिए मेहनत

उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 2021 के संस्करण में विशाल स्लैलम में 45वें विश्व स्थान पर है। इस वर्ष उनका लक्ष्य शीर्ष 30 में पहुंचना है।

बीजिंग के लिए रवाना होने से पहले उन्होंने कहा, “मैं कुछ वर्षों से गंभीरता से प्रशिक्षण ले रहा हूं और मेरी उम्मीद दुनिया के शीर्ष 30 में होने की है। शीर्ष 30 में होना दुनिया में पदक विजेताओं की तरह है।” नवंबर 2021 में, उन्होंने स्लैलम इवेंट के लिए क्वालीफाई किया। दिसंबर में, उन्होंने विशाल स्लैलम इवेंट में एक स्थान अर्जित किया।

13 फरवरी, 2022 को बीजिंग स्टेडियम में विशाल स्लैलम के लिए प्रतियोगिता आयोजित की जाएगी। स्लैलम इवेंट 16 फरवरी को आयोजित किया जाएगा। हमारे एथलीट आरिफ खान के लिए चीयर करते रहें, जैसा कि हमने टोक्यो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाले एथलीटों के लिए किया था।

अस्वीकरण: यह लेख का तथ्य-जांच किया गया है


Image Credits: Google Photos

Source: BBCOutlook India & Scroll.in

Originally written in English by: Debanjali Das

Translated in Hindi by: @DamaniPragya

This post is tagged under: Arif Khan, Beijing Olympics, winter Olympics, Indian athlete, 2022 winter Olympics, Kashmir, skiing, Slalom, giant slalom


Other Recommendations:

FAKE FRIENDLY FRIDAYS: IN CONVERSATION WITH CHINESE PRESIDENT ABOUT WESTERN COUNTRIES BOYCOTTING THE WINTER OLYMPICS

Pragya Damani
Pragya Damanihttps://edtimes.in/
Blogger at ED Times; procrastinator and overthinker in spare time.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Must Read

“Worst Day Of My Life, First Time Going To Sleep Hungry;”...

People travel across countries and cities, leaving their homes behind, in search of jobs or to settle down or pursue higher education.  It's often very...

Subscribe to India’s fastest growing youth blog
to get smart and quirky posts right in your inbox!

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner