Saturday, December 9, 2023
ED TIMES 1 MILLIONS VIEWS
HomeHindiखील बताशा दिवाली परंपरा का एक अभिन्न अंग क्यों है?

खील बताशा दिवाली परंपरा का एक अभिन्न अंग क्यों है?

-

दिवाली सिर्फ रोशनी का ही नहीं बल्कि मिठाइयों का भी त्योहार है। और इस त्यौहार के दौरान तैयार की जाने वाली अन्य सभी पारंपरिक भारतीय मिठाइयों में, गोल सफेद खील बताशा सबसे प्रसिद्ध और स्वादिष्ट हैं।

 

खील बताशाओं को हर किसी के अंदर दिवाली की भावना को तेज करने की क्षमता के लिए जाना जाता है। वे प्लेटों पर परोसे जाने वाले खुशी के छोटे सिक्कों की तरह हैं। वे उत्सव के दौरान भारतीय घरों में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

खील बताशा क्या है?

खील बताशा फूला हुआ चावल और चीनी का संयोजन है जिसे अक्सर पारंपरिक और धार्मिक उद्देश्यों के लिए कन्फेक्शनरी या मिठाई के टुकड़े के रूप में उपयोग किया जाता है। यह ज्यादातर हिंदू देवताओं को मंदिरों या घरों में प्रसाद के रूप में चढ़ाया जाता है और दीवाली जैसे धार्मिक अवसरों पर तैयार किया जाता है।

यह शरद ऋतु के आसपास तैयार किया जाता है जब देश में बड़ी मात्रा में चावल और गन्ना होता है। उन्हें लंबे समय तक संग्रहीत किया जा सकता है और आसानी से ले जाया जा सकता है।

मिठाई ने अपने अधिक मीठे स्वाद के कारण और निश्चित रूप से, अपने भारतीय स्पर्श के कारण लोकप्रियता हासिल की। इस विशेष मिठाई के आसपास की धार्मिक भावनाएं इसे और अधिक विशिष्ट बनाती हैं।

ऐतिहासिक पृष्ठभूमि

बताशा बनाने की प्रक्रिया एक विशिष्ट भारतीय कला है, और यह उस समय से बाजार में है जब गन्ने की पैदावार सबसे अधिक व्यावसायिक फसलों के रूप में की जाती थी, जो उत्तर के मसाले और रेशम मार्गों के माध्यम से भारी निर्यात की जाती थी।

भरभुंजा उत्तर भारत से संबंधित एक प्राचीन हिंदू जाति है, जिन्होंने भुंजा या चना भूनने के अपने व्यवसाय से अपना नाम प्राप्त किया। वे ही इस मीठे व्यंजन के असली निर्माता हैं।


Also Read: Breakfast Babble: My Childhood Diwali Memories Were Made Of Bursting Crackers


पौराणिक बैकस्टोरी

Jahangir and Noor Jahan

पौराणिक कथाओं के अनुसार सिक्के के आकार की इन कन्फेक्शनरी की जहांगीर और नूरजहां की प्रेम कहानी में महत्वपूर्ण भूमिका थी। किंवदंतियों का कहना है कि जब मीना बाज़ार में जहाँगीर ने पहली बार मेहर-उन-निस्सा / नूरजहाँ पर नज़र डाली, तो वह बताशा के मीठे स्वाद का आनंद ले रही थी, और उसका मुँह उनसे भरा हुआ था।

दिवाली के दौरान खील बताशा का महत्व

मुख्य रूप से चावल और चीनी से बनी इन पूरी तरह गोल आकार की मिठाइयों का दिवाली पर विशेष महत्व है क्योंकि भारत की सबसे आकर्षक फसल होने के कारण धान की इस त्योहार के दौरान बड़ी मात्रा में कटाई की जाती है।

देवी लक्ष्मी और धन के देवता भगवान कुबेर को श्रद्धांजलि देने के लिए दिवाली पर खील बताशा तैयार की जाती है, ताकि बदले में वे सभी को अच्छे भाग्य, अच्छे स्वास्थ्य और खुशी का आशीर्वाद दें।

इसी तरह, ज्योतिष कहता है कि शुक्र ग्रह, या शुक्र ग्रह, जो धन और समृद्धि भी सुनिश्चित करता है, इस समय के दौरान सबसे अधिक सक्रिय होता है। इसलिए, कुछ लोग शुक्रग्रह की पूजा करते हैं और उसे प्रसन्न करने के लिए खील बताशा तैयार करते हैं।

उत्सव के मूड में मुंह में पानी लाने वाली मिठाइयाँ होती हैं क्योंकि वे एक पारंपरिक अवसर की भावनाओं को बढ़ाती हैं। चाहे लड्डू हो, मालपुए, बर्फी, गुलाब जामुन या संदेश, खील बताशा के अनोखे स्वाद का मुकाबला कोई नहीं कर सकता। हालांकि, अगर आप मधुमेह रोगी हैं, तो आपको हर कीमत पर इनसे दूर रहना चाहिए।

अगर आपको मीठा खाने का शौक है और आप खील बताशा के प्रशंसक हैं तो नीचे कमेंट करें।


Image Credits: Google Photos

Feature Image designed by Saudamini Seth

Source: The Times Of India & blogger’s own opinion

Originally written in English by: Ekparna Podder

Translated in Hindi by: @DamaniPragya

This post is tagged under: diwali, diwali 2022, lights, festival of lights, sweets, kheel Batasha, celebration, delicacy, Jahangir, Noor Jahan, sugar, rice, sugarcane, paddy harvest, autumn, festive mood, sweet taste, festival 

Disclaimer: We do not hold any right, copyright over any of the images used, these have been taken from Google. In case of credits or removal, the owner may kindly mail us.


Other Recommendations:

WATCH: 5 COUNTRIES THAT CELEBRATE DIWALI LIKE INDIA

Pragya Damani
Pragya Damanihttps://edtimes.in/
Blogger at ED Times; procrastinator and overthinker in spare time.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Must Read

Reactions From Students On 8 Ad Hoc Teachers Being Removed From...

Eight ad hoc teachers have been shunted out from the prestigious English department of Ramjas College, under the University of Delhi. Students staged a...

Subscribe to India’s fastest growing youth blog
to get smart and quirky posts right in your inbox!

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner