Wednesday, February 21, 2024
ED TIMES 1 MILLIONS VIEWS
HomeHindi16 दिनों में बैंक केवाईसी और पैन घोटाले में मुंबई के 81...

16 दिनों में बैंक केवाईसी और पैन घोटाले में मुंबई के 81 निवासियों ने कुल मिलाकर 1 करोड़ रुपये गंवाए

-

पिछले 16 दिनों के दौरान मुंबई के 81 निवासियों को कुल मिलाकर 1 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। घोटालेबाजों ने बैंक अधिकारियों के रूप में पेश किया था और दावा किया था कि अगर उनके पैन कार्ड या केवाईसी को तुरंत अपडेट नहीं किया गया तो पीड़ितों के बचत खातों को या तो ब्लॉक कर दिया जाएगा या निलंबित कर दिया जाएगा।

इस धमकी ने बहुत दहशत पैदा कर दी और पीड़ितों को अपने पैन कार्ड या केवाईसी को अपडेट करने के लिए फर्जी लिंक पर क्लिक करने के लिए दौड़ा दिया।

इसके बाद पीड़ितों से उनके पैसे का एक बड़ा हिस्सा ठग लिया गया, जो जाहिर तौर पर उनके बचत खाते में सुरक्षित था।

मुंबईकरों ने घोटाला किया

जालसाजों द्वारा रची गई इस सुनियोजित दहशत के कारण ढेर सारे लोगों के साथ धोखाधड़ी हुई है। पीड़ित अपने बचत खातों और अपने पैसे को सुरक्षित रखना चाहते थे, लेकिन अपनी गाढ़ी कमाई खो बैठे।

एक निजी फर्म में 40 वर्षीय कर्मचारी एमएस गोसावी इस घोटाले में 4.99 लाख रुपये की ठगी का शिकार होने वाले 81वें शिकार थे। माहिम के एक वरिष्ठ नागरिक दंपत्ति के खाते से 2 लाख रुपए की चपत लग गई।

अभिनेता श्वेता मेनन और अभिनेता-राजनीतिज्ञ नगमा के साथ भी घोटाला हुआ था। गोरेगांव की एक द्वितीय वर्ष की कॉलेज छात्रा के बैंक खाते में सिर्फ 57 रुपये बचे थे। उसने कहा कि उसने घबराहट में काम किया जब उसे एक संदेश मिला जिसमें कहा गया था कि उसका खाता अवरुद्ध कर दिया गया है और इस तरह उसके सारे पैसे खो गए हैं।


Read More: Man Ends Up Paying ₹29 Lakhs For An iPhone While Buying From Instagram, Here’s How To Protect Yourself


आधिकारिक प्रभाव

मुंबई के 35 पुलिस स्टेशनों और पांच साइबर पुलिस स्टेशनों में 81 प्राथमिकी दर्ज की गई हैं। तेजी से सफलता हासिल करने की चाहत में शहर की साइबर क्राइम यूनिट ने 5 मामलों को अम्ब्रेला केस बनाने के लिए लिया है। मामलों को साइबर क्राइम यूनिट में स्थानांतरित कर दिया गया था क्योंकि कम समय में धोखाधड़ी की गतिविधियों में भारी वृद्धि हुई थी।

साइबर पुलिस ने बैंकों से कहा है कि वे अपने सिस्टम में डेटा उल्लंघन की तलाश में रहें।

मुंबई साइबर क्राइम के डीसीपी डॉ. बालसिंग राजपूत ने कहा, ‘टीम को धोखाधड़ी में शामिल संगठित अपराध सिंडिकेट के मॉड्यूल का पता चला है। उनके विवरण का खुलासा करना जल्दबाजी होगी।

उन्होंने यह भी कहा कि लोगों को यह ध्यान रखना चाहिए कि कोई भी बैंक, वित्तीय संस्थान या सेवा प्रदाता बैंक खातों के निलंबन के बारे में चेतावनी नहीं देते हैं।

नागरिक चिंता

ठगी के शिकार लोगों को डर सता रहा है कि कहीं उनका पैसा वापस न मिल जाए। संबंधित बैंकों में विवाद के फॉर्म भर दिए गए हैं और मामले की जांच की जा रही है लेकिन उन्हें चिंता है कि अगर बैंकों को पता चल गया कि ग्राहक ने गलती की है, तो पैसा मिलने की संभावना कम हो जाती है।

क्या आपके साथ कभी घोटाला हुआ है? आपने स्थिति से कैसे निपटा? हमारे टिप्पणी अनुभाग में बताएं।


Disclaimer: This article is fact-checked.

Image Credits: Google Images

Feature image designed by Saudamini Seth

SourcesThe Times of IndiaLive Mint

Find the blogger: Pragya Damani

This post is tagged under: Mumbai residents, bank scam, PAN, KYC, KYC scam, panic, FIR, police, cyber crime, cyber police

Disclaimer: We do not hold any right, copyright over any of the images used, these have been taken from Google. In case of credits or removal, the owner may kindly mail us.


Other Recommendations:

CYBER ATTACKERS SEEM TO BE AFTER INDIAN FIRMS AND DATA OF INDIANS NOW

Pragya Damani
Pragya Damanihttps://edtimes.in/
Blogger at ED Times; procrastinator and overthinker in spare time.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Must Read

UK University Tags Sikh Langar Event Under “Discover Islam Week,” Draws...

The world is progressing at a fast rate with many advancements being seen made in the technology and information sector and others as well. However,...

Subscribe to India’s fastest growing youth blog
to get smart and quirky posts right in your inbox!

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner