जैसा कि भारत के दैनिक और समग्र कोविड-19 मामले चिंताजनक गति से बढ़ रहे हैं, हम कोविडयट्स से भी परिचित हो रहे हैं।

ये वे लोग हैं जो देश में कोरोनोवायरस के मामलों में तेजी से वृद्धि को देखते हुए भी स्वेच्छा से और एकमुश्त अनिवार्य नियमों को भंग करते हैं जिन्हें सरकार और अन्य अधिकारियों द्वारा लागू किया गया है।

फिर ऐसे बेहद विशेषाधिकार प्राप्त लोग भी हैं, जो सोशल मीडिया पर इस बात को बताने से खुद रोक नहीं सकते है कि कैसे वे अब भी देश को जकड़ने वाले महामारी के साथ अपना सर्वश्रेष्ठ जीवन जी रहे हैं।

किसी को इन लोगों से पूछना चाहिए कि यह सारी हक़दारी कहाँ से आती है? जब आधे से अधिक राष्ट्र गंभीर मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के मुद्दों से जूझ रहे हैं, लाखों लोग कड़े नियमों का पालन कर रहे हैं, हजारों लोग अपने जीवन के लिए लड़ रहे हैं, इन लोगों को वास्तव में क्या लगता है कि वे क्या कर रहे हैं?

यहां उन विशेषाधिकार प्राप्त लोगों के कुछ उदाहरण है जो उन आम लोगों के सामने दिखावा करते हैं जो गंभीर स्थिति को देखते हुए ऐसा नहीं कर सकते हैं या नहीं करना चाहते हैं।

1. एक जोड़ा जिसने मास्क नहीं पहना

वायरल हो चुके वीडियो में दिल्ली के एक जोड़े को घर से बाहर किसी भी समय मास्क पहनने के नियम की धज्जियां उड़ाते देखा जा सकता है और इस बात पर उन्हें गर्व भी है।

रविवार को दरियागंज क्षेत्र के आसपास पुलिस अधिकारियों ने दंपति को रोक दिया क्योंकि वे न केवल सप्ताहांत कर्फ्यू के खिलाफ जा रहे थे, जो की कोविड​​-19 के मामलों की खतरनाक संख्या के कारण स्तापित किया गया था, और उन्होंने मास्क भी नहीं पहना था।

वीडियो में युगल को पुलिस के साथ बहस करते देखा गया है, औरत ने उनसे पूछा कि “मैं अपने पति को किस करुँगी। क्या आप मुझे उससे रोक सकते हैं? ”।

दिल्ली उच्च न्यायालय ने इस महीने ही यह अनिवार्य कर दिया था कि लोगों को अपनी कार में अकेले होने पर भी अपने चेहरे के मास्क पहनने होंगे।

दंपति ने लगातार मुखौटा पहनने से इनकार कर दिया और अंततः रविवार को उनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया। पंकज गुप्ता पति को रविवार को ही गिरफ्तार कर लिया गया था जबकि पत्नी आभा गुप्ता के खिलाफ अभी भी इसी तरह की कार्रवाई की जा रही है।

2. पूजा बेदी

बॉलीवुड अदाकारा पूजा बेदी के उनके मंगेतर मानेक कॉन्ट्रैक्टर के साथ गोवा में छुट्टिया मनाते हुए वीडियो पर उन्हें बेहरहमी से ट्रोल किया गया। यह वीडियो पूजा बेदी ने अपने सोशल मीडिया पर साझा की थी।

अपने कैप्शन में उन्होंने लिखा, “स्वस्थ और खुश #गोवा में रहने की खुशिया। अपने मन को # मुक्त करो। जीवन जीने के लिए होता है … वायरस के डर से एक वर्ष तक कैद में रहने और नकाबपोश करने के लिए नहीं होता, खासकर उस वायरस के डर से जो कही नहीं जा रही है! यदि आप कल ताला बंद करने के बाद और मास्क लगाने के बाद मर गए .. तो आपका सबसे बड़ा अफसोस क्या होगा? ”

इसके परिणामस्वरूप अभिनेत्री के खिलाफ तुरंत प्रतिक्रिया हुई और कई लोगों ने उसे अपने विशेषाधिकार के बारे में जानकारी दी और कहा कि उसे ऐसे समय में इस तरह के व्यवहार की वकालत नहीं करनी चाहिए।


Read More: COVID-19 Warriors Dance In Front Of Patients To Encourage Them To Keep Up The Fight


3. मालदीव में छुट्टियां मनाते हस्तियां

मशहूर हस्तियों का एक समूह मालदीव और कुछ अन्य स्थानों पर छुट्टियां मनाने गया है।

सनी समुद्र तटों और शानदार रिसॉर्ट्स पर उनके खुशहाल जीवन के कई तस्वीरें और वीडियो पोस्ट करना उनके लिए आम है।

आलिया भट्ट और रणबीर कपूर को हाल ही में पत्रकारों ने मालदीव के लिए रवाना होते हुए देखा। अभिनेत्री जाह्नवी कपूर और दिशा पटानी भी अपने सोशल मीडिया पर लगातार पोस्ट कर रही हैं कि उन्हें वहां कितना मज़ा आ रहा है।

4. शराब की दुकानों के बाहर लोगो का इकट्ठा होना

हाल ही में दिल्ली के कर्फ्यू की घोषणा के बाद, लोगों ने शराब की दुकानों में भीड़ इकठ्ठा कर दी थी, जिसमें कोई सोशल डिस्टन्सिंग नहीं थी और यहां तक ​​कि मुखौटे भी चेहरे पर ठीक से लगाए हुए थे।

इस सब के बीच, यह जानना ज़रूरी है कि सोशल मीडिया पर पोस्ट करने का सही तरीका क्या है जो गंभीर कोविड-19 पर्यावरण के प्रति असंवेदनशील न हो।

एक रास्ता यह है कि हम अभिनेता अमित साध की मार्ग पर जाएं जहां उन्होंने सोशल मीडिया से पूरी तरह विराम लिया है। उन्होंने कहा, “पूरा देश कठिन समय से गुजर रहा है। मेरा मानना ​​है कि मेरे पोस्ट और जिम सत्रों की रील और मूर्खतापूर्ण चीजें जो मैं करता हूं, वे किसी को ठीक या उनका मनोरंजन नहीं करेंगे।

यह किसी की आलोचना नहीं है। मैं व्यक्तिगत रूप से स्थिति के बारे में संवेदनशील होने का सबसे अच्छा तरीका यह महसूस करता हूं कि मैं प्रार्थना करू और चीजों के बेहतर होने की उम्मीद करू।”

दूसरा तरीका यह है कि आप अपने महलो और आलीशान रसोई की तस्वीरें पोस्ट न करे और अपने निजी पूल में बैठकर ये न कहे की ज़िन्दगी कितनी कठिन है।

अपने धन का दिखावा उन लोगो के सामने जो दुसरो की तरह सब कुछ नहीं कर सकते है न करके छोटी खुशिया बाटे।


Image Credits: Google Images

Sources: The WeekNews18Hindustan Times

Originally written in English by: Chirali Sharma

Translated in Hindi by: @DamaniPragya

This post is tagged under: Privilege people, Privilege people covid, Privilege people gap covid-19, india covid-19 pandemic, pooja bedi, pooja bedi Privilege, pooja bedi trolled, amit sadh, amit sadh social media, coronavirus, coronavirus india, masks, wearing masks india, covidiots delhi, covidiots


Other Recommendations:

Daughter Wailing Of Her Father’s Death In A Hospital Parking Lot Is An Image That’ll Haunt Us Forever

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here