Thursday, February 29, 2024
ED TIMES 1 MILLIONS VIEWS
HomeHindiब्रेकफास्ट बैबल: मुझे ऐसा क्यों लगता है कि घर अब घर नहीं...

ब्रेकफास्ट बैबल: मुझे ऐसा क्यों लगता है कि घर अब घर नहीं रहा

-

ब्रेकफास्ट बैबल ईडी का अपना छोटा सा स्थान है जहां हम विचारों पर चर्चा करने के लिए इकट्ठा होते हैं। हम चीजों को भी जज करते हैं। यदा यदा। हमेशा।


जैसे ही उत्सव की रोशनी से सड़कें सज गईं और मिठाइयों की सुगंध हवा में भर गई, मैंने खुद को दिवाली के लिए अपने गृहनगर के केंद्र में वापस पाया। जैसे ही मैंने परिचित गलियों में कदम रखा और हँसी की गूँज सुनी जो कभी घर को परिभाषित करती थी, मेरे ऊपर पुरानी यादों की लहर दौड़ गई। फिर भी, परिवार की गर्मजोशी और उत्सव की रोशनी की चमक के बीच, एक परेशान करने वाला सच मेरे सामने आया – घर अब घर जैसा नहीं लगता।

दूसरे राज्य में पढ़ने वाला छात्र होने के नाते रोमांच और चुनौतियों का अपना हिस्सा होता है। आज़ादी और नए अनुभवों ने मुझे ऐसे आकार दिया है जिसकी मैंने कभी कल्पना भी नहीं की थी। लेकिन जैसे ही मैं उस स्थान पर लौटा जो आराम और अपनेपन का पर्याय था, मैं अपने ही अभयारण्य में एक आगंतुक की तरह महसूस करने से खुद को नहीं रोक सका।

परिवर्तन सूक्ष्म होते हुए भी गहरा था। वह कमरा जिसमें कभी मेरी बचपन की हँसी की गूँज सुनाई देती थी, अब छोटा लगने लगा और अनगिनत कहानियाँ देखने वाली दीवारें दूर लगने लगीं। जो सड़कें परिचित ध्वनियों से गूँजती थीं, वे अब मेरे कॉलेज शहर की हलचल भरी अराजकता में डूबकर किसी दूर की धुन की तरह लग रही थीं। घर, जो कभी शांति का केंद्र था, अब परिवर्तन के शोर से गूंज उठा है।

रोशनी का त्योहार दिवाली हमारे जीवन के हर कोने को रोशन करने के लिए है। हालाँकि, जब मैं चकाचौंध के बीच में खड़ा था, तो मैं बदलाव की छाया से बच नहीं सका जो मेरे घर के ढांचे में छा गई थी। जो परंपराएँ कभी दीवारों में रची-बसी हुई लगती थीं, वे अब बीते युग की सुदूर गूँज जैसी लगती थीं।


Read More: Breakfast Babble: Why I Feel Long Distance Relationships Aren’t As Difficult As Made Out To Be


लोग भी विकसित हो गए थे। पारिवारिक गतिशीलता बदल गई, और हँसी जो एक बार सामंजस्यपूर्ण रूप से गूँजती थी, अब समय बीतने के साथ चलने लगी। यह कोई नकारात्मक परिवर्तन नहीं था, बल्कि यह अहसास था कि समय की रेत किसी को नहीं छोड़ती, यहां तक ​​कि किसी के घर की पवित्र भूमि को भी नहीं।

जैसे ही मैं पारंपरिक दिवाली दावत के लिए बैठा, मैं यादों की झांकी में एक पर्यवेक्षक की तरह महसूस करने से खुद को रोक नहीं सका। जिन स्वादों का स्वाद कभी घर जैसा लगता था, उनमें अब अपरिचितता की झलक मिलती है। यह भोजन या परंपराओं की गलती नहीं थी – यह मेरे अपने स्वाद और दृष्टिकोण का विकास था।

शायद, यह वह कीमत है जो हम विकास और अन्वेषण के लिए चुकाते हैं। एक अलग राज्य में शिक्षा की चुनौतियों से जूझ रहे एक छात्र के रूप में, मैंने जीवन का एक नया अध्याय अपनाया है। हालाँकि, हर कदम आगे बढ़ने के साथ, मेरा एक हिस्सा अतीत की सादगी की चाहत रखता है, जब घर सिर्फ एक जगह नहीं बल्कि एक एहसास था।

चकाचौंध उत्सवों के बीच, मुझे कड़वी हकीकत का सामना करना पड़ा – हो सकता है कि घर वैसा महसूस न हो क्योंकि मैं वैसा नहीं हूं। जैसे ही रोशनी फीकी पड़ गई, और मैंने परिचित सड़कों को अलविदा कहा, मुझे एहसास हुआ कि घर, दिवाली की तरह, एक उत्सव है जो समय के साथ विकसित होता है, और कभी-कभी, सबसे बड़ी रोशनी भीतर से आती है।


Feature image designed by Saudamini Seth

Sources: Blogger’s own opinions

Find the blogger: Pragya Damani

This post is tagged under: home, home isn’t home, home isn’t home anymore, changed dynamics, family, college student

Disclaimer: We do not hold any right, copyright over any of the images used, these have been taken from Google. In case of credits or removal, the owner may kindly mail us.


Other Recommendations:

BREAKFAST BABBLE: WHY I SOMETIMES LOVE CANCELLING PLANS

Pragya Damani
Pragya Damanihttps://edtimes.in/
Blogger at ED Times; procrastinator and overthinker in spare time.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Must Read

Janm NGO – nurturing young minds

New Delhi (India), February 28: In a bustling world brimming with challenges, Janm emerges as a beacon of hope, offering daily classes that transcend...

Subscribe to India’s fastest growing youth blog
to get smart and quirky posts right in your inbox!

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner