Thursday, July 18, 2024
ED TIMES 1 MILLIONS VIEWS
HomeHindiक्यों "ऐच्छिक" विधि भारतीय उच्च शिक्षा में प्रगति की ओर एक प्रमुख...

क्यों “ऐच्छिक” विधि भारतीय उच्च शिक्षा में प्रगति की ओर एक प्रमुख कदम है

-

सेंट्रल बोर्ड ऑफ़ सेकेंडरी एजुकेशन (सीबीएसई) ने इस महीने की शुरुआत में कक्षा 10 वीं की बोर्ड परीक्षाओं के लिए वर्तमान बैच के मूल्यांकन और प्रवेश मानदंडों की घोषणा की। राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 में उल्लिखित दिशानिर्देशों का पालन करते हुए, बोर्ड अब बच्चों को अपनी पसंद के किसी भी विषय को किसी भी स्ट्रीम में चुनने की अनुमति देता है।

जैसा कि वर्तमान में देश को कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर के शिखर का सामना करना पड़ रहा है, देश भर के संस्थानों द्वारा परीक्षाएं स्थगित, रद्द और ऑनलाइन निर्धारित की गईं। स्थिति के मद्देनजर कक्षा 10 सीबीएसई की बोर्ड परीक्षा भी रद्द कर दी गई।

दिशानिर्देश क्या कहते हैं?

सीबीएसई द्वारा जारी अधिसूचना के अनुसार, यह उल्लेख किया गया था कि “बोर्ड के अध्ययन की योजना के अनुसार, छात्रों को किसी भी स्ट्रीमिंग के बिना विषयों के किसी भी संयोजन की पेशकश करने की अनुमति है, इसलिए, स्कूलों को भी इसका पालन करना चाहिए।”

कई वर्षों से, कक्षा 11 और 12 की शिक्षा को भारतीय छात्र के जीवन में एक महत्वपूर्ण मोड़ माना जाता है, जिसमें लगभग हर महत्वपूर्ण शैक्षणिक निर्णय वरिष्ठ माध्यमिक परीक्षाओं में प्रदर्शन से प्रभावित होता है। पुरानी शिक्षा प्रणाली के कारण भारतीय छात्रों को अक्सर अपार चुनौतियों का सामना करना पड़ा, और शायद यही वह बदलाव है जो हम वर्षों से देखना चाह रहे हैं।

चित्र सौजन्य: सीबीएसई

भारतीय शिक्षा प्रणाली लंबे समय से अनुप्रयोग-आधारित शिक्षा की सुविधा के बजाय रॉट लर्निंग पर आधारित है। एक ऐसे देश में, जहा आर्ट्स को कमज़ोर छात्रों के लिए सठिक समझा जाता है और सभी विषयों को श्रेणीबद्ध नज़रिए से देखा जाता है, यह कदम निश्चित रूप से शिक्षा के प्रति एक अलग दृष्टिकोण का मार्ग प्रशस्त करता है।


Also Read: How To Get Admission In A Good Law School In India


 

नीति के अनुसार, 11 वीं कक्षा में शामिल होने वाले छात्र न्यूनतम 5 विषयों का चयन कर सकते हैं, जिसमें 4 अनिवार्य ऐच्छिक हैं, जिन्हें किसी भी स्ट्रीम से चुना जा सकता है और उनकी पसंद का 1 अनिवार्य भाषा विषय। बोर्ड ने उन विषयों की एक विशाल सूची की पेशकश की है जिन्हें चुना जा सकता है – यह निश्चित रूप से उन विषयों का चयन करने के लिए रोमांचक लगता है जो किसी को अनिवार्य रूप से सीखने के बजाय सीखने के लिए ‘इच्छा’ हो।

ये कदम प्रगतिशील क्यों है?

भारतीयों का शिक्षा पर एक लोकप्रिय समस्यात्मक दृष्टिकोण है जो काफी प्रतिगामी और पक्षपाती है। जाहिर है, बोर्ड द्वारा जारी दिशा-निर्देश पूरी तरह से नए नहीं हैं, और छात्रों के पास पहले से ही विषयों को चुनने का विकल्प है। लेकिन कई स्कूल इस तरह के विषय संयोजन की पेशकश नहीं करते हैं, इसलिए छात्र की शिक्षा तक पहुंच प्रतिबंधित थी।

यहां से, बोर्ड ने छात्रों को कोई भी विषय को चुनने की भी अनुमति दी है भले ही स्कूल विषयों की पेशकश न करें। हालांकि यह अभी भी स्पष्ट नहीं है कि सीखने की प्रक्रिया इस परिदृश्य में कैसे आगे बढ़ेगी, परन्तु यह शिक्षा में तीन लोकप्रिय धाराओं – विज्ञान, वाणिज्य, और मानविकी (जिनका भारतीय एक पदानुक्रम में विचार करते हैं, इसी क्रम में) के बीच की खाई को पाटने में बहुत मदद करेगी।

एक पढाई में अच्छे छात्र से उम्मीद की जाती थी कि वह विज्ञान ही पढ़ेंगे, लेकिन तब भी विषयों में आंतरिक विकल्प नहीं था। अनिवार्य विषय भी छात्रों द्वारा भविष्य में उनके अकादमिक वंशानुक्रम के आधार पर उपयोग नहीं किए जा सकते हैं! इस अभ्यास के कारण छात्र पढ़ना नहीं चाहते और सिर्फ रट्टा मारते है।

जैसा कि देश एक शिक्षा प्रणाली के लिए स्नातक और स्नातकोत्तर नियमों के अनुकूल है, छात्रों को एक विकल्प देने से उन्हें अपने हितों के आधार पर चयन करने में मदद मिलती है, बजाय विकल्पों की कमी के कारण चुनाव। निस्संदेह प्रगतिशील, वैकल्पिक विधि छात्र को उनकी रुचि और शौक का पता लगाने की अनुमति देती है और शैक्षिक और सह-पाठ्यचर्या संबंधी गतिविधियों को एकीकृत करके, हर विषय को समान महत्व देती है।

हालांकि यह सच होने के लिए बहुत अच्छा लगता है, अधिसूचना स्पष्ट रूप से युवाओं के लिए एक अच्छी तरह से एकीकृत शिक्षा प्रणाली प्रदान करने का लक्ष्य रखती है। कॉलेजों ने भी लिबरल आर्ट्स जैसे पाठ्यक्रमों की पेशकश शुरू कर दी है, भारतीय शिक्षा का भविष्य आखिर इतना धुंधला नहीं है।

11 वीं कक्षा में ऐच्छिक चुनाव पर आपकी क्या राय है? नीचे कमेंट करके हमें बताए।


Image Credits: Google Images, CBSE

Sources: India TodayNDTVIndia TVCBSE

Originally written in English by: Aishwarya Nair

Translated in Hindi by: @DamaniPragya

This post is tagged under: CBSE; school education; higher education in India; Indian schools; education in India; class 11 and 12; senior secondary education; cbse guidelines; national education policy 2020; NEP 2020; No streams; elective method; choosing electives across streams; choosing electives in class 11; college-friendly education; rote learning; application based learning; Rote learning in Indian education system; Science; Commerce; Humanities; COVID 19 pandemic; CBSE cancels exams; class 10 boards cancelled; exam cancellation due to pandemic; Students can select any subjects in 11th


Other Recommendations:

Why Did The British Introduce Segregation Of Genders In Schools When India Never Had That Practice?

Pragya Damani
Pragya Damanihttps://edtimes.in/
Blogger at ED Times; procrastinator and overthinker in spare time.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Must Read

“Worst Day Of My Life, First Time Going To Sleep Hungry;”...

People travel across countries and cities, leaving their homes behind, in search of jobs or to settle down or pursue higher education.  It's often very...