Wednesday, July 17, 2024
ED TIMES 1 MILLIONS VIEWS
HomeHindi'आईफोन फिंगर' क्या है और क्या यह खतरनाक है?

‘आईफोन फिंगर’ क्या है और क्या यह खतरनाक है?

-

हाल के वर्षों में, स्मार्टफोन के व्यापक उपयोग ने न केवल हमारी जीवनशैली को बदल दिया है, बल्कि हमारे शारीरिक स्वास्थ्य पर इसके प्रभाव के बारे में भी चर्चा शुरू कर दी है। ऐसा ही एक विषय जोर पकड़ रहा है जिसे “आईफोन फिंगर” नाम दिया गया है।

इस शब्द ने लोगों का ध्यान खींचा है और इस बात पर बहस छेड़ दी है कि क्या लंबे समय तक स्मार्टफोन का उपयोग हमारे हाथों की उपस्थिति और स्वास्थ्य को बदल रहा है। इस घटना को टिकटॉक पर साझा किए गए द टीजे शो के एक सेगमेंट के दौरान सुर्खियों में लाया गया, जिस पर जनता और विशेषज्ञों की ओर से कई तरह की प्रतिक्रियाएं आईं।

“आईफोन फिंगर” का उद्भव

“आईफोन फिंगर” की अवधारणा को टीजे शो में एक मेजबान द्वारा उजागर किया गया था, जहां यह बताया गया था कि उपयोग के दौरान स्मार्टफोन का वजन अक्सर छोटी उंगली पर कैसे रहता है। इस निरंतर दबाव से दृश्यमान इंडेंटेशन हो सकता है, जो संभावित रूप से उंगली की उपस्थिति को बदल सकता है।

दर्शकों को अपने स्वयं के पिंकीज़ की जांच करने के लिए प्रोत्साहित किया गया, जिसके परिणामस्वरूप कई लोगों को समान इंडेंट की खोज हुई और व्यापक जिज्ञासा और चिंता पैदा हुई।

टिकटॉक वीडियो को छह मिलियन से अधिक बार देखा गया, जिससे टिप्पणियों की बाढ़ आ गई। कुछ दर्शकों को इस शब्द में हास्य मिला, जबकि अन्य ने इसकी वैधता पर सवाल उठाया।

टिप्पणियाँ इस प्रकार थीं, “आईफोन फिंगर क्यों और सिर्फ फोन फिंगर क्यों नहीं?” अधिक हास्यप्रद टेक जैसे, “मुझे सैमसंग फिंगर मिल गई… भगवान का शुक्र है कि मेरे पास आईफोन फिंगर नहीं है।” हालाँकि, हर कोई आश्वस्त नहीं था, कुछ लोगों ने ध्यान दिया कि उनकी उंगलियों के निशान स्मार्टफोन के आगमन से बहुत पहले से मौजूद थे।

सार्वजनिक प्रतिक्रिया और बहस

“आईफोन फिंगर” की अवधारणा पर जनता की प्रतिक्रिया मिश्रित थी, कई लोगों ने अपने विचार साझा करने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया। जहां कुछ उपयोगकर्ताओं को यह शब्द मनोरंजक और प्रासंगिक लगा, वहीं अन्य को संदेह हुआ।

एक उपयोगकर्ता ने मज़ाकिया ढंग से कहा, “आईफ़ोन से पहले मेरी दोनों पिंकीज़ में मोड़ था,” जबकि दूसरे ने टिप्पणी की, “यह जंक साइंस है, मेरी हर उंगली में एक ही स्थान पर एक ‘इंडेंट’ है”।

इस घटना की तुलना अन्य दोहरावदार तनाव चोटों से भी की गई, जैसे कि लेखक का कैलस। हेल्थलाइन के अनुसार, एक लेखक का कैलस उंगली के खिलाफ बार-बार घर्षण से बनता है, यह सुझाव देता है कि स्मार्टफोन के साथ इसी तरह की दोहराव वाली गतिविधियों से हाथों में ध्यान देने योग्य शारीरिक परिवर्तन हो सकते हैं।


Also Read: Australians Are Walking Barefoot On Roads But Why?


“आईफोन फिंगर” पर विशेषज्ञ की राय

विशेषज्ञों ने “आईफोन फिंगर” की वैधता पर अंतर्दृष्टि प्रदान करते हुए बहस पर जोर दिया है। व्यावसायिक चिकित्सक एंड्रयू ब्रैकेन ने फॉक्स13 से बात की, यह स्वीकार करते हुए कि स्मार्टफोन के उपयोग से उंगलियों के निशान वास्तविक हैं, “आईफोन फिंगर” एक मान्यता प्राप्त चिकित्सा स्थिति नहीं है।

ब्रैकेन ने समझाया, “आप अपने स्मार्टफोन को स्थिर करने और समर्थन देने के लिए अपनी पिंकी का उपयोग कर रहे हैं, और आप सचमुच अपने फोन को पकड़ने से अपनी पिंकी के किनारे को इंडेंट करते हैं”।

इसके बावजूद, ब्रैकेन ने लंबे समय तक स्मार्टफोन के उपयोग के संभावित परिणामों, जैसे कि क्यूबिटल टनल सिंड्रोम और कार्पल टनल सिंड्रोम, के बारे में चेतावनी दी। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि इन स्थितियों से छोटी उंगली और हाथ के किनारे सुन्नता हो सकती है, जिस पर ध्यान न देने पर गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

विशेषज्ञों के अनुसार स्मार्टफोन का अत्यधिक उपयोग विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं में योगदान दे सकता है। क्लीवलैंड क्लिनिक के आर्थोपेडिक सर्जन डॉ. पीटर इवांस ने इस संभावना पर प्रकाश डाला कि जिसे कुछ लोग “स्मार्टफोन पिंकी” मानते हैं वह एक अंतर्निहित स्थिति हो सकती है।

इवांस ने कहा, “लगातार सेलफोन का उपयोग कई प्रकार की जोड़ों की समस्याओं का कारण बन सकता है। हालांकि चोट के कुछ दावे बढ़ा-चढ़ाकर किए जा सकते हैं, अन्य वास्तविक हैं और उनमें गंभीर, दीर्घकालिक क्षति शामिल है।”

इवांस ने क्लिनिकोडैक्टली, एक आनुवंशिक उंगली विकृति और डुप्यूट्रेन के संकुचन जैसी स्थितियों का भी उल्लेख किया, जो स्मार्टफोन के उपयोग से असंबंधित हैं, लेकिन इसके लिए गलत हो सकते हैं। ये अंतर्दृष्टि स्मार्टफोन-प्रेरित मुद्दों और पहले से मौजूद स्थितियों के बीच अंतर करने, जागरूकता और उचित निदान की आवश्यकता को बढ़ावा देने के महत्व को रेखांकित करती है।

मुकाबला करने के तंत्र और सिफ़ारिशें

“आईफोन फिंगर” पर चिंताओं के आलोक में, विशेषज्ञों और टिप्पणीकारों दोनों ने विभिन्न मुकाबला तंत्रों का सुझाव दिया है। पॉपसॉकेट जैसे सहायक उपकरण का उपयोग करने से छोटी उंगली पर दबाव कम करने में मदद मिल सकती है, जिससे स्मार्टफोन का वजन पूरे हाथ में समान रूप से वितरित हो जाता है। इसके अतिरिक्त, तनाव और संभावित दीर्घकालिक क्षति को रोकने के लिए समग्र स्क्रीन समय को कम करने की सिफारिश की जाती है।

लंबे समय तक स्मार्टफोन के उपयोग के प्रभावों को कम करने में एर्गोनोमिक जागरूकता महत्वपूर्ण है। हम अपने उपकरणों को कैसे पकड़ें, इसे समायोजित करना, बार-बार ब्रेक लेना और हाथ के व्यायाम को शामिल करना, ये सभी हाथ के बेहतर स्वास्थ्य में योगदान कर सकते हैं। ये सक्रिय उपाय अधिक गंभीर स्थितियों के विकास को रोकने और हमारे तेजी से डिजिटल जीवन में समग्र कल्याण बनाए रखने में मदद कर सकते हैं।

“आईफोन फिंगर” की घटना हमारी डिजिटल आदतों के भौतिक प्रभाव के बारे में बढ़ती चिंता को उजागर करती है। हालांकि इसे आधिकारिक तौर पर एक चिकित्सीय स्थिति के रूप में मान्यता नहीं दी गई है, लेकिन स्मार्टफोन के उपयोग से हमारे पिंकीज़ पर दिखाई देने वाले निशान दोहराए जाने वाले तनाव और अनुचित एर्गोनोमिक प्रथाओं से संबंधित व्यापक मुद्दों को दर्शाते हैं।

सार्वजनिक प्रतिक्रिया मिश्रित रही है, कुछ को इसमें हास्य मिला और कुछ ने अवधारणा की वैधता पर सवाल उठाए। विशेषज्ञों की राय संयम, उचित उपकरण संचालन और संभावित स्वास्थ्य जोखिमों के बारे में जागरूकता की आवश्यकता पर जोर देती है। चूँकि हम प्रौद्योगिकी को अपने दैनिक जीवन में एकीकृत करना जारी रखते हैं, इसलिए इसके भौतिक प्रभावों के प्रति सचेत रहना और अपने स्वास्थ्य की रक्षा के लिए कदम उठाना आवश्यक है।


Image Credits: Google Images

Feature image designed by Saudamini Seth

SourcesFirstpostNDTVIndia Today

Originally written in English by: Katyayani Joshi

Translated in Hindi by: Pragya Damani

This post is tagged under: iphone, iphone finger, deformed, pinky finger, experts, phone use, smartphone usage, physical impact, Popsockets, orthopaedic, diagnosis, pre-existing conditions

Disclaimer: We do not hold any right, or copyright over any of the images used, these have been taken from Google. In case of credits or removal, the owner may kindly mail us.


Other Recommendations:

Spending Time Online Might Not Be Harmful As Perceived, Latest Research Says

Pragya Damani
Pragya Damanihttps://edtimes.in/
Blogger at ED Times; procrastinator and overthinker in spare time.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Must Read

“Worst Day Of My Life, First Time Going To Sleep Hungry;”...

People travel across countries and cities, leaving their homes behind, in search of jobs or to settle down or pursue higher education.  It's often very...

Subscribe to India’s fastest growing youth blog
to get smart and quirky posts right in your inbox!

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner